राजस्थान पूरा काम पूरा दाम कैंपेन 2020 | Rajasthan Pura Kaam Pura Daam Campaign in Hindi

0
23

राजस्थान पूरा काम पूरा दाम कैंपेन 2020, मनरेगा कर्मचारी (Rajasthan Pura Kaam Pura Daam Campaign in Hindi, MNREGA Workers)  

दोस्तों आज हम आपको बताएंगे राजस्थान पूरा काम पूरा दाम कैंपेन 2020 के बारे में. सबसे पहले आपको यहां जानकारी दे दें कि राजस्थान की राज्य सरकार ने सभी मनरेगा वर्कर्स के लिए पूरा काम पूरा दाम अभियान को 2 नवंबर 2020 को शुरू कर दिया गया है. ऐसी आशा की जा रही है कि इस अभियान के माध्यम से राजस्थान राज्य के सभी श्रमिकों को काफी अधिक फायदा पहुंचेगा और उन्हें उनके द्वारा किए गए काम का पूरा वेतनमान प्रदान किया जाएगा. अगर आपको इस अभियान के बारे में जानकारी नहीं है तो हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ें.

rajasthan pura kaam pura daam campaign in hindi

राजस्थान सरकार मोक्ष कलश योजना के तहत अस्थियाँ विसर्जित करने के लिए हतिद्वर तक निशुल्क यात्रा प्रदान कर रही है, जानिए क्या है योजना.    

पूरा काम पूरा दाम कैंपेन क्या है

यह कैंपेन राजस्थान राज्य के महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम यानी मनरेगा स्कीम के अंतर्गत गरीब मजदूरों के लिए शुरू की गई है ताकि उन्हें उनकी मजदूरी के लिए परेशानी ना उठानी पड़े, और उन्हें उनके काम के पूरे पैसे मिल सके. साथ ही बता दें कि मनरेगा के तहत मजदूरों का अधिकतम वेतन 220 रुपए निर्धारित किया गया है. यदि किसी भी मजदूर को उचित मजदूरी नहीं मिलती तो यह विभाग के खराब कार्य प्रबंधन को दर्शाता है क्योंकि श्रमिक के द्वारा किए गए काम का पूरा वेतन उसे मिलना अत्यंत अनिवार्य होता है. ‌साथ ही जानकारी के लिए बता दें कि मनरेगा स्कीम के तहत कार्य करने वाले मजदूरों और टेक्निकल स्टाफ के मध्य कुछ चीजें पूरी तरह से क्लियर नहीं है जिनमें सुधार किया जाएगा ताकि मजदूरों को पूरा काम पूरा दाम कैंपेन के तहत वेतन मिल सके.

पूरा काम पूरा दाम कैंपेन लॉन्च (Launch)

राजस्थान पूरा काम पूरा दाम कैंपेन 2020 की शुरूआत की गई है ताकि मनरेगा वर्कर्स को उनके काम का पूरा दाम मिल सके.  यहां बता दें कि राजस्थान राज्य सरकार का इस अभियान को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य मनरेगा वर्कर्स को प्रेरित करना है ताकि श्रमिकों को उनके द्वारा किए गए काम की पूरी मजदूरी प्राप्त हो सके. इससे संबंधित फाइल राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भेज दी गई है.

राजस्थान टीएडी सुपर 30 प्रोजेक्ट के तहत सिविल सेवा के लिए भर्ती होने वाले लोग मुफ्त में कोचिंग सुविधा प्राप्त कर सकते हैं.

पूरा काम पूरा दाम कैंपेन का क्रियान्वयन (Implimentation)

बता दें कि पूरा काम पूरा दाम कैंपेन के तहत राजस्थान की राज्य सरकार निम्नलिखित बातों को अमल में लाएगी जिनकी जानकारी इस प्रकार से है-

  • अगर कोई मजदूर काम पर नहीं आता है तो राजस्थान सरकार दूसरे श्रमिकों को अनुपस्थित मजदूर की शिकायत दर्ज करने के लिए प्रोत्साहित करेगी.
  • सभी साथियों को सरकार की तरफ से ट्रेनिंग दी जाएगी और जितनी भी महिलाएं हैं उनकी 50% तक की कार्य भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए फोकस किया जाएगा. ‌इस तरह मजदूर महिलाओं को भी काफी अच्छी तरह से आगे बढ़ने और काम करने के लिए प्रेरित किया जा सकेगा. बता दें कि 70% तक महिलाएं ऐसी हैं जो मजदूरी का कार्य करती हैं.
  • इसके अलावा सभी श्रमिकों ने इस बात की जागरूकता फैलाई जाएगी कि उन्हें जो काम दिया गया है उसको पूरा करें और उसका लाभ लें.

पूरा काम पूरा दाम कैंपेन की आवश्यकता

यहां जानकारी के लिए बता दें कि राजस्थान राज्य में सभी मजदूरों की मजदूरी की एवरेज 162 रूपए है. लगभग चार-पांच सालों से श्रमिकों के वेतनमान में बहुत सारी कमियां देखी गई है जिसकी वजह से जो श्रमिक अपना काम पूरी मेहनत और ईमानदारी से करते हैं उनको भी उतनी ही सैलरी मिलती है जितनी काम ना करने वालों को मिलती है. इसीलिए यह पाया गया कि कम मजदूरी के कारण राजस्थान के मजदूरों का लगभग 2400 सौ करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. इस सब के जिम्मेदार तकनीकी कर्मचारी और सुपरवाइजर हैं क्योंकि वे मजदूरों को पेमेंट देते समय धोखाधड़ी करते हैं. जिसकी वजह से गरीब मजदूर बहुत अधिक पीड़ित और परेशान हैं. वर्तमान में वे मजदूरी की एवरेज दर बढ़ाने के लिए कम काम के लिए अधिक पैसे दे रहे हैं जो कि सारे सिस्टम को बुरी तरह प्रभावित कर रहा है.

इसीलिए राज्य सरकार ने तकरीबन 3 साल पहले पूरा काम पूरा दाम कैंपेन की शुरुआत की थी. यहां बता दें कि यह कैंपेन अब से पहले सरकार ने अजमेर में शुरू किया था जिसमें सरकार को काफी सफलता भी मिली थी. बता दें कि इस कैंपेन के द्वारा परिसंपत्तियों के निर्माण में बढ़ोतरी हुई है और इसीलिए यह मौजूदा समय में कुछ जिलों में अभी भी चल रहा है.

राजस्थान आनन्दम योजना कॉलेज स्टूडेंट्स को समाज समाज के प्रति जागरूक करने के लिए शुरू की गई है ऐसे उठा सकते हैं लाभ.

पूरा काम पूरा दाम कैंपेन के बारे में जानकारी (Details)

कैंपेन का नामराजस्थान पूरा काम पूरा दाम
किसने शुरू कीराजस्थान सरकार
कैंपेन शुरू होने की तिथि2 नवंबर 2020
शुरू करने का उद्देश्यश्रमिकों को उनके द्वारा किए गए काम का पूरा वेतन प्रदान करना
किसके लिए शुरू कीमनरेगा वर्कर्स
किसने अप्रूव कियामुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने
डिपार्टमेंटस्टेट रूलर डेवलपमेंट डिपार्टमेंट

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल जिसमें हमने आपको जानकारी दी राजस्थान में शुरू की गई पूरा काम पूरा दाम कैंपेन के बारे में. ‌हमें पूरी उम्मीद है कि हमारा यह पोस्ट आपके लिए काफी अधिक उपयोगी और लाभदाई रहा होगा.

FAQ

Q : राजस्थान पूरा काम पूरा दाम कैंपेन किसके लिए हैं ?

Ans : मनरेगा वर्कर्स के लिए.

Q : राजस्थान पूरा काम पूरा दाम कैंपेन किसने लांच किया ?

Ans : राजस्थान सरकार द्वारा.

Q : राजस्थान पूरा काम पूरा दाम कैंपेन का उद्देश्य क्या है ?

Ans : श्रमिकों को उनके द्वारा किए गए काम का पूरा वेतन प्रदान करना.

Q : राजस्थान पूरा काम पूरा दाम कैंपेन को चलाने वाला संबंधित विभाग कौन सा है ?

Ans : स्टेट रूलर डेवलपमेंट डिपार्टमेंट.

अन्य पढ़ें –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here