Home Rajasthan राजस्थान घर घर औषधि योजना 2021 , आवेदन

राजस्थान घर घर औषधि योजना 2021 [Rajasthan Ghar Ghar Aushadhi Yojana in Hindi], आवेदन

0

राजस्थान घर घर औषधि योजना 2021, औषधीय पौधे, वितरण, गुण, आवेदन, लाभार्थी, पात्रता परिवार, अधिकारिक वेबसाइट, टोल फ्री नंबर [Rajasthan Ghar Ghar Aushadhi Yojana in Hindi] (Medicine Herbs, Plant, Benefit, Gun, Application, Official Website, Eligible Family, Toll free Number)

वर्तमान समय में कोरोना वायरस के प्रकोप ने पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया है। इस वजह से लोगों का ज्यादातर खर्च दवाइयों तथा अस्पतालों में खर्च होने लगा था, परंतु कुछ जगहों पर औषधि का इस्तेमाल करके लोग ठीक हो रहे थे, उन्हें काफी लाभ पहुंच रहा था और इस पर लोगों की ज्यादा धनराशि खर्च भी नहीं हो रही थी। इसको देखते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने अपने राज्य के नागरिकों के लिए एक महत्वपूर्ण तथा महत्वकांक्षी योजना प्रारंभ की, जिसका नाम राजस्थान घर घर औषधि योजना है। आज हम इस लेख में आपको इस योजना के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी देंगे तथा यह भी बताएंगे कि वह कौन से पौधे हैं, जिन्हें राजस्थान सरकार आपके घर तक पहुंचाएंगे और उन पौधों का लाभ भी आपको विस्तारपूर्वक बताएंगे।

rajasthan ghar ghar aushadhi yojana in hindi

Table of Contents

राजस्थान घर घर औषधि योजना 2021

योजना का नामराजस्थान घर घर औषधि योजना
शुभारंभ साल 2021
घोषणा किया गयाराजस्थान सरकार
लाभार्थीराजस्थान के सभी लोग
पौधे के नामतुलसी, अश्वगंधा, गिलोय तथा कालमेघ
अधिकारिक वेबसाइट यहाँ क्लिक करें
हेल्पलाइन नंबरप्रत्येक जिले के लिए अलग – अलग है

राजस्थान घर-घर औषधि योजना के उद्देश्य

  • हाल ही के दशक में बहुत सारी बीमारियों ने जन्म ले चुकी है। जिस वजह से आम परिवार पर स्वास्थ्य से संबंधित खर्च बढ़ चुके हैं और उनके पास आमदनी निरंतर कम हो रही है, इसलिए इस योजना को लाकर राजस्थान सरकार आम लोगों की समस्याओं का निराकरण कर रही है।
  • चूँकि हम लोग ज्यादातर रसायन युक्त दवाई खाना पसंद करते हैं। जिस वजह से हम जल्दी तो ठीक हो जाते हैं परंतु लंबे समय तक इसका असर नहीं रहता है और यह बीमारी पुनः हो जाती है परंतु हम औषधि का इस्तेमाल करते हैं तो वह लंबे समय तक असर करती हैं और इस पर खर्च भी कम आता है इसीलिए इस योजना को लाया गया है।
  • इस योजना को शुरू करने का यह उद्देश्य भी है कि लोगों को प्रकृति तथा उसमें पाए जाने वाले औषधि पौधों के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके और उनका इस्तेमाल करके घर में ही सर्दी जुखाम और बुखार जैसी बीमारियों को ठीक कर सकें, ताकि उन्हें अस्पतालों के चक्कर काटने ना पड़े। इससे उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। उन्हें किसी प्रकार का अतिरिक्त खर्च झेलना ना पड़े।

राजस्थान घर-घर औषधि योजना लाभ

  • इस योजना से लोगों का अतिरिक्त खर्च बचेगा।
  • लोगों को हॉस्पिटल तथा दवाइयों के खर्च के लिए अधिक मेहनत करने की आवश्यकता नहीं होगी।
  • इस योजना के तहत लोग औषधि पौधों की गुणवत्ता तथा उनके बारे में ज्ञान प्राप्त करेंगे।
  • इसका सबसे अच्छा लाभ यह है कि इससे लोग पौधों तथा पेड़ों के महत्व के बारे में समझेंगे।
  • लोगों को घर बैठे ही छोटी मोटी बीमारी का इलाज प्राप्त हो जाएगा।
  • यह पौधे उन्हें मुफ्त में दिए जा रहे हैं, इसके लिए आम लोगों को कोई खर्च करने की आवश्यकता नहीं होगी।
  • इसका लाभ राजस्थान के लगभग 12650000 परिवारों को प्राप्त होगा।

राजस्थान घर-घर औषधि योजना विशेषताएं

औषधि पौधे :-

इस योजना के अंतर्गत राजस्थान सरकार 4 प्रकार के औषधि पौधे प्रदान करेंगे। जिनका नाम तुलसी, अश्वगंधा, गिलोय तथा कालमेघ है। इन चारों पौधों का अत्यधिक औषधि महत्व है क्योंकि इनमें ऐसे गुण पाए जाते हैं, जो बुखार, सर्दी, खासी, गले में तकलीफ आदि जैसी बीमारियों को दूर कर कर सकते हैं और यह पौधे हर जगह आसानी से उग जाते हैं।

इन पौधों की देखरेख :-

इन्हें सभी चुने गए औषधीय पौधों के लिए विशेष उपचार देने की आवश्यकता नहीं होती है और इनमें कोई भी उर्वरक डालने की आवश्यकता भी नहीं होती है। इनका औषधि में उपयोग होने के कारण राजस्थान सरकार ने इन्हीं 4 पौधों का चयन किया है। यह राजस्थान में आसानी से उग जाएंगे।

योजना का संचालन :-

इसको अच्छे से संचालित करने के लिए एक कमेटी बनाई गई है। जिसके माध्यम से इसको संचालित किया जाएगा। इसका लाभ सभी को प्राप्त हो सके इसीलिए यह सुनिश्चित किया गया है कि सभी जिलों में एक जिला स्तरीय टास्क फोर्स का गठन किया जाए। इसके अध्यक्ष कलेक्टर होंगे। कलेक्टर जिले में होने वाले औषधि वितरण कार्यक्रम का संचालन करेंगे और इन सभी पर राज्य के मुख्य सचिव के द्वारा बनाई गई राज्य स्तरीय समिति निगरानी रखेंगी। इन्हें गांव तक पहुंचाने के लिए पंचायत का इस्तेमाल किया जाएगा तथा पंच और सरपंच के माध्यम से घर-घर तक यह चारों औषधि पौधे पहुंचाए जाएंगे। इस तरह से राज्य के उच्चतम अधिकारी तथा गांव के पंच तक के लोगों को इस योजना में शामिल किया गया है।

नर्सरी का निर्माण :-

इसके लिए वन विभाग ने बहुत बड़ी नर्सरी तैयार की है। जिसमें लाखों की तादाद में यह औषधि पौधे तैयार किए जा रहे हैं। इनका उपयोग हम सामान्य रूप से कर सकते हैं

औषधीय पौधों की संख्या :-

इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक परिवारों को 8 पौधे देगे प्रत्येक औषधि पौधे के दो पौधे दिए जाएंगे। यह 5 सालों तक नियमित रूप से संचालित किया जाएगा। इन 5 सालों में कुल 24 पौधे दिए जाएंगे।

योजना का बजट :-

यह योजना 5 वर्षों के लिए बनाई गई है। इसके लिए राजस्थान सरकार ने 210 करोड रुपए का बजट रखा है। इसमें प्रत्येक वर्ष औषधि पौधे दिए जाएंगे, प्रथम वर्ष 31.4 करोड रुपए का खर्च होगा और बाकी से राशि 5 वर्षों में खत्म की जाएगी। इस तरह से इतने बड़े बजट के साथ इस योजना को लाया गया है।

औषधीय पौधों के गुण :-

तुलसी :-

तुलसी की पूजा की जाती है तथा इसका औषधिक गुण भी है। यह गले की खराश तथा सर्दी जुखाम के लिए इस्तेमाल की जाती है। इसकी पत्तियां खाना चाहिए।

गिलोय :-

यह अति महत्वपूर्ण औषधि पौधा है। इसमें 21 प्रकार की बीमारियों को ठीक करने का गुण पाया जाता है। यह बुखार तथा पेट से संबंधित विकारों को दूर करता है।

कालमेघ :-

इसमें कई प्रकार के औषधि गुण पाए जाते हैं। इसमें एंटीबायोटिक, एंटी टयूमर एवं एंटी एलर्जी गुण पाए जाते हैं। इससे कुष्ठ रोग, फोड़े फुंसी तथा त्वचा के विकार दूर होते हैं।

अश्वगंधा :-

इस पौधे का इस्तेमाल करने से दिल से संबंधित बीमारियां दूर होती है। यह कोलेस्ट्रॉल को भी कम करता है और मांसपेशियों को तंदुरुस्त बनाता है। इससे डायबिटीज भी दूर होती है।

पौधों का वितरण :-

हालही में घोषणा की गई है कि इस योजना के तहत औषधीय पौधों का वितरण प्रत्येक परिवार को 5 जुलाई से किया जाना शुरू कर दिया जायेगा. आपको बता दें कि सभी को यह पौधे निशुल्क वितरित किये जायेंगे.

राजस्थान घर घर औषधि योजना पात्रता

राजस्थान का निवासी :-

इस योजना का लाभ राजस्थान में रहने वाले निवासियों को मिलेगा. उन्हें मुफ्त में औषधीय पौधे प्रदान किये जायेंगे.

प्रत्येक परिवार :-

इस योजना के लांच के साथ यह निर्णय लिया गया है कि इस योजना के लाभार्थी राजस्थान के प्रत्येक परिवार होंगे. यानि इसमें एक परिवार को 4 प्रकार के औषधीय पौधे वितरित किये जायेंगे.

राजस्थान घर घर औषधि योजना दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पता

राजस्थान घर-घर औषधि योजना आधिकारिक वेबसाइट

इस योजना में रजिस्ट्रेशन से संबंधित अभी कोई भी जनकारी नहीं दी गई है लेकिन यदि आप इस योजना की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इसके लिए आप राजस्थान वन विभाग की अधिकारिक वेबसाइट में जा सकते हैं. इसके लिए अधिकारिक लिंक दी गई है.

राजस्थान घर-घर औषधि योजना रजिस्ट्रेशन

वर्तमान में अभी राजस्थान सरकार के तरफ से रजिस्ट्रेशन की कोई प्रक्रिया जारी नहीं की गई है। इसलिए आपको अभी इसके लिए इन्तेजार करना पड़ेगा.

राजस्थान घर-घर औषधि योजना हेल्पलाइन नंबर

वर्तमान समय में इस योजना के अंतर्गत हेल्पलाइन नंबर की जानकारी आप इसकी अधिकारिक वेबसाइट में जाकर प्राप्त कर सकते हैं. इस अधिकारिक वेबसाइट में आपको जिले के आधार पर आलग अलग हेल्पलाइन नंबर की जानकारी मिल जाएगी। आप अपने जिले के अनुसार हेल्पलाइन नंबर देख कर इसका लाभ उठा सकते हैं.

आशा करता हूं मेरे द्वारा दी गई जानकारी से आप संतुष्ट होंगे। इस लेख का उद्देश्य राजस्थान घर-घर औषधि योजना के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान करना है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस योजना का लाभ प्राप्त हो सके।

FAQs

Q : राजस्थान घर-घर औषधि योजना क्या है ?

Ans : यह राजस्थान सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना है, इसके अंतर्गत औषधि पौधे प्राप्त होगे।

Q : राजस्थान घर-घर औषधि योजना किसने लांच की ?

Ans : यह योजना राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने की है।

Q : राजस्थान घर-घर औषधि योजना का क्या लाभ है ?

Ans : इस योजना से लोगों को महत्वपूर्ण औषधि पौधे प्राप्त होंगे, जिसका इस्तेमाल वह सामान्य बीमारियों से निपटने के लिए कर सकते हैं।

Q : राजस्थान घर-घर औषधि योजना का लाभ किसे मिलेगा ?

Ans : यह योजना राजस्थान के सभी लोगों के लिए है।

Q : राजस्थान घर घर औषधि योजना का लाभ कैसे मिलेगा ?

Ans : इस योजना का लाभ लाभार्थियों को सरकार खुद प्रदान कर सकती है, लेकिन इसके लिए उन्हें रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया से गुजरना होगा।

अन्य पढ़ें –

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here