पीएम किसान रेल सेवा योजना 2020 ऑनलाइन बुकिंग, ट्रैन लिस्ट, रजिस्ट्रेशन |Kisan Rail Sewa Yojana 2020 In Hindi

0
55

पीएम किसान रेल सेवा योजना 2020 ऑनलाइन बुकिंग, ट्रैन लिस्ट, रजिस्ट्रेशन (Kisan Rail seva Yojana 2020 In Hindi

कुछ समय पूर्व जब सुविधाएं इतनी अधिक नहीं थी उस समय विभिन्न प्रकार के सामानों को एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में ले जाने के लिए काफी ज्यादा समय और धन खर्च हुआ करता था। हालांकि खाद्य सामग्री के मामले में तो बहुत ज्यादा नुकसान उठाना पड़ता था क्योंकि एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचने में इतना समय लग जाता था कि कुछ खाद्य पदार्थ तो खराब ही हो जाते थे। परंतु अब नई तकनीक की मदद से किसानों के लिए इस प्रकार की ट्रेन चलाई गई है जिनकी सहायता से किसान अपनी खाद्य सामग्री को देश के एक कोने से लेकर दूसरे कोने तक आसानी से पहुंचा देते हैं। गुणवत्ता वाले खाद्य पदार्थों के बदले उन्हें उचित मूल्य की प्राप्ति भी हो जाती है। सरकार द्वारा चलाई गई पीएम किसान रेल योजना के तहत किसानों को काफी फायदा हुआ है। आइए इस योजना के बारे में विस्तार पूर्वक जान लेते हैं।

pm-kisan-rail-train-sewa-service-route-ministry

Contents

किसान रेल सेवा के लांच की जानकारी

नामकिसान रेल योजना
घोषणा की गईबजट 2019-20 में
लांच की गईरेल मंत्री द्वारा
लाभार्थीदेश के किसान
संबंधित विभाग / मंत्रालयरेल मंत्रालय एवं कृषि मंत्रालय
टैग लाइनखुशहाल किसान समृद्ध राष्ट्र

किसान रेल योजना की विशेषताएं

किसान रेल सेवा का उद्देश्य –

किसानों के लिए केंद्र सरकार द्वारा जारी की गई इस रेल सेवा के तहत वह सही सलामत विभिन्न खाद्य पदार्थों की सामग्री को देश के प्रत्येक स्थान पर पहुंचाने का काम करना चाहते हैं। सरकार का यही उद्देश्य है कि रियायती दरों पर सभी खाद्य पदार्थ देश के प्रत्येक नागरिकों को प्राप्त हो।

किसान रेल योजना के तहत दी जाने वाली सुविधाएं:-

सरकार द्वारा जारी की गई इस योजना के तहत मुख्य रूप से किसानों को यह सुविधा दी जा रही है कि वह अपने द्वारा उगाए गए सभी खाद्य पदार्थों को देश के किसी भी कोने में आसानी से पहुंचा सके।

पहली किसान रेल:-

इस योजना के प्रारंभ होने के बाद पहली किसान रेल सेवा महाराष्ट्र के देवलली/ नासिक से प्रारंभ होकर बिहार के दानापुर तक चलाई जाएगी।

किसान रेल की समय सारणी:

किसानों के लिए चलाई गई रेल महाराज के देवलली स्टेशन से ठीक सुबह 11:00 बजे निकलकर दूसरे दिन शाम को 6:45 पर बिहार के दानापुर पहुंच जाएगी। साप्ताहिक आधार पर चलाई जाने वाली ट्रेन की समय सारणी में किसान और राज्यों के मांग के अनुसार परिवर्तन किए जा सकते हैं।

कुल दूरी:-

इस योजना के तहत चलाई जाने वाली किसान रेल का गंतव्य स्थान महाराष्ट्र के देवली से बिहार के दानापुर तक का सफर 31 घंटे का है जो कि 15 से 19 किलोमीटर की दूरी को सफर करने के बाद है।

सामान/ उत्पाद:

इस योजना के तहत चलाई जाने वाली किसान रेल में सब्जी फलों के साथ-साथ अंगूर एवं प्याज जैसे उत्पादों को महाराष्ट्र के किसानों से प्राप्त करने के बाद बिहार छोड़ा जाएगा और अगले दिन बिहार से यही ट्रेन पान, मखाना, ताजा सब्जियां और मछली आदि उत्पादों को लेकर वापस महाराष्ट्र लौटेगी। हालांकि इस ट्रेन के जरिए किसान अपनी इच्छा के अनुसार कोई भी उत्पाद और फसल भेज सकते हैं।

कूलिंग सुविधा:-

इस योजना के तहत चलाई जाने वाली ट्रेन में सबसे जरूरी बात का ध्यान रखा गया है कि इस ट्रेन के अंदर फ्रोजन कंटेनर बनाए गए हैं जिनमें कुछ ऐसे पदार्थों को संभाल कर रखा जाएगा जो जल्दी खराब हो जाते हैं जैसे कि फल, सब्जी, मछली, मांस दूध आदि। इस ट्रेन में एक समय पर 17 टन से भी अधिक खाद्य पदार्थ को एक साथ रखा जा सकता है।

ट्रेन का निर्माण:-

इस योजना मैं किसानों के हित को ध्यान में रखते हुए इस स्पेशल ट्रेन का निर्माण रेल कोच फैक्ट्री कपूरथला में संपूर्ण किया गया है।

पहली किसान रेल की स्टॉपेज:

किसान रेल नासिक रोड से निकलती हुई मनमाड़, जलगांव, भुसावल, बुरहानपुर, खंडवा, इटारसी, जबलपुर, सतना, कटनी, मानिकपुर, छिउकी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर और बक्सर स्टेशन पर रूकती हुई अंत में बिहार के दानापुर पहुंच जाएगी।

किसान की आय में वृद्धि:-

केंद्र सरकार द्वारा किसानों के हित के लिए रेल सेवा की शुरुआत किसानों की आय में वृद्धि को लेकर भी की गई है। जब गंतव्य स्थान तक आसानी से सही समय पर किसानों द्वारा किए गए उत्पादन का सामान पहुंचाया जा सकेगा तो किसानों को उच्च मूल्य प्राप्त हो पाएगा जिससे उनकी आय में निश्चित ही वृद्धि होगी।

व्यापारियों को लाभ:-

किसानों की आय में वृद्धि होने के साथ-साथ जो व्यापारी इस ट्रेन में आने वाले खाद्य पदार्थों को बेचेंगे उन्हें भी बहुत ज्यादा लाभ की प्राप्ति होगी।

किसान रेल का प्रति टन किराया:-

इस योजना के अंतर्गत निर्धारित शर्तों के अनुसार जो किसान अपने माल जैसे फल सब्जियां दूध आदि वस्तुओं को एक स्थान से दूसरे स्थान पहुंचाने के लिए यदि इस ट्रेन का सहारा लेते हैं तो उन्हें प्रति टन के आधार पर उन वस्तुओं का किराया देना होगा। सरकार द्वारा निर्धारित राशि के अनुसार देवलाली से होते हुए दानापुर तक के लिए 4001 रुपये प्रति टन के हिसाब से मनमाड से दानापुर तक 3849 रुपये प्रति टन खंडवा से दानापुर के लिए 3148 रुपये प्रति टन बुरहानपुर से दानापुर के लिए 3323 रुपये प्रति टन भुसावल से दानापुर के लिए 3459 रुपये प्रति टन किराए का भुगतान किसानों को करना होगा।

किसान रेल योजना में ऑनलाइन बुकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया

भारत देश में रहने वाला कोई भी किसान यदि इस रेल यात्रा के जरिए अपने उत्पादित सामान को एक कान से दूसरे स्थान पर भेजना चाहते हैं तो वे ऑनलाइन बुकिंग रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। फिलहाल ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया का प्रारंभ नहीं किया गया है इसलिए इस प्रक्रिया के जारी होने तक किसानों को थोड़ा इंतजार करना होगा। सरकार की तरफ से ना तो कोई आधिकारिक वेबसाइट का निर्माण हुआ है और ना ही इस योजना के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया की कोई अन्य जानकारी भी प्रदान की गई है इसलिए कुछ समय के इंतजार की आवश्यकता होगी ताकि इस योजना से संबंधित सभी प्रक्रिया पूरी होने के बाद आप इस योजना का संपूर्ण लाभ प्राप्त कर सकें।

इस योजना के जरिए देश के लाखों किसानों को बहुत बड़ी मात्रा में लाभ की प्राप्ति हो पाएगी। खाना की इस योजना कब पहला सुझाव पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तरफ से आया तो था परंतु कुछ समय पश्चात वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के जरिए उनके पहले भाषण के दौरान इस योजना की घोषणा कर दी गयी थी। परंतु कोरोनावायरस की वजह से उनकी स्थिति के चलते ट्रेन की योजना को बीच में ही रोकना पड़ा परंतु इस पर से फिर से कार्य प्रारंभ कर दिया गया है जिसका फायदा किसानों तक जल्द ही पहुंचाया जा सकेगा।

FAQ

Q- किसान रेल योजना क्या है?

A- किसानों द्वारा उत्पादित की जाने वाली खाद्य सामग्री जैसे सब्जी फल और अन्य पदार्थों को देश के एक स्थान से लेकर दूसरे स्थान तक सही समय और सही सलामत पहुंचाने के लिए प्रारंभ की गई ट्रेन सेवा किसान रेल योजना है.

Q- किसान रेल योजना की शुरुआत किसने की?

A- रेल मंत्री पीयूष गोयल जी ने

Q- इस योजना के तहत पहली किसान रेल कहां से कहां तक चलाई जा रही है?

A- इस योजना के तहत महाराष्ट्र के देवलली से प्रारंभ करके बिहार के दानापुर तक पहली ट्रेन चलाई जा रही है।

Q- किसान रेल की क्या खासियत है?

A- इस योजना के तहत चलाई गई किसान रेल के अंदर फ्रोजन कंटेनरो की व्यवस्था की गई है ताकि सब्जी एवं फल जल्दी से खराब ना हो और लंबे समय तक ताजी रहे.

Q- किसान रेलवे टिकट का किराया कितना होगा?

A- फिलहाल किसान रेलवे टिकट का किराया कितना होगा इस बात से संबंधित कोई भी जानकारी सरकार की तरफ से जारी नहीं की गई है परंतु जो भी होगा किसानों के लिए रियायती ही रखा जाएगा.

Other links –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here