Home Other महाकाल विकास योजना

महाकाल विकास योजना

0

Mahakal Vikas Yojana MP kya hain महाकाल विकास योजना

मध्य प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी ने अपने राज्य में निर्माण कार्यों को गति प्रदान करने के लिए महाकाल विकास योजना का प्रारंभ किया है। इस योजना के माध्यम से मध्य प्रदेश राज्य में हर एक छोटे बड़े कार्यों को विकास और निर्माण का रूप दिया जाएगा।इस योजना को मंजूरी प्रदान कर के मुख्यमंत्री जी ने उज्जैन को एक बड़ी सौगात प्रदान की है। इस योजना के शुरू हो जाने से दुकानदारों, छोटे-मोटे धंधे करने वाले व्यक्तियों का भी विशेष रूप से सरकार ध्यान रखेगी। मुख्यमंत्री जी ने कहा है, कि योजना के विभिन्न घटकों का नामकरण उज्जैन के परंपरा एवं संस्कृति के अंतर्गत ही रखा जाएगा। योजना के सफल संचालन के लिए माननीय मंत्री जी ने कहा कि देश एवं विदेश के तरह निर्माण कार्यों में जहां-जहां अच्छे प्रयोग इस्तेमाल किए गए हैं, उनका सभी लोग अनुकरण करके योजना का संचालन करें। आइए इस योजना के बारे में और भी विस्तार पूर्वक से जानते हैं।

महाकाल विकास योजना का हाईलाइट

योजना का नाममहाकाल विकास योजना 2021
योजना का प्रारंभमाननीय शिवराज सिंह चौहान जी ने प्रारंभ किया
योजना की लॉन्च तिथिजनवरी वर्ष 2021
योजना का लाभार्थी राज्यमध्य प्रदेश राज्य
योजना का उद्देश्यमध्य प्रदेश राज्य में विकास एवं निर्माण कार्यों को गति प्रदान करना
योजना की आधिकारिक वेबसाइटजल्दी
योजना का हेल्प डेस्कजल्दी

महाकाल विकास योजना क्या है

इस योजना के जरिए मध्य प्रदेश सरकार श्री महाकालेश्वर मंदिर से जुड़े हुए निर्माण एवं विकास कार्यों को बढ़ावा एवं गति प्रदान करने पर विशेष रूप से ध्यान देगी। इस योजना के प्रारंभ हो जाने से महाकालेश्वर मंदिर का क्षेत्रफल करीब 8 से 10 गुना ज्यादा विकसित हो जाएगा। परियोजना के अंतर्गत प्रथम चरण में महाकाल प्लाजा, महाकाल कॉरिडोर, मिडवे जोन, महाकाल थीम पार्क, घाट एवं डेक एरिया, नूतन स्कूल कंपलेक्स, गणेश स्कूल कंपलेक्स, पार्किंग, धर्मशाला, प्रवचन हाल एवं अन्य क्षेत्र निर्माणाधीन होंगे।

इतना ही नहीं योजना के दूसरे चरण में महाराजवाड़ा, रूद्र सागर जीर्णोद्धार, छोटा रूद्र सागर लेक फ्रंट, रामघाट का सौन्दर्यीकरण, पार्किंग एवं पर्यटन सूचना केन्द्र, हरिफाटक पुल का चौंड़ीकरण एवं रेलवे अण्डरपास तथा रूद्र सागर पर पैदल पुल, महाकाल द्वार, बेगमबाग मार्ग के विकास के साथ-साथ रूद्र सागर पश्चिमी मार्ग और महाकाल मंदिर तक पहुंचने का मार्ग सशक्त करने के लिए योजना के अंतर्गत प्रावधान है।

इसके अतिरिक्त महाकाल कॉरिडोर के अंतर्गत प्रथम घटक में पैदल चलने के लिए यात्रियों के हित के लिए करीब उपयुक्त 200 मीटर लंबा मार्ग बनाया जाएगा। ई-रिक्शा एवं अन्य आकस्मिक वाहनों के आवागमन के लिए मार्ग भी तैयार किया जाएगा। यात्रियों के जन सुविधा से संबंधित सभी प्रकार के नियंत्रण केंद्र सहित निगरानी केंद्र भी खोले जाएंगे।

मंदिर के उपयुक्त क्षेत्र में बैठक सुविधाएं भी यात्रियों से सुविधा के लिए बनाए जाएंगे। ठीक इसी तरह से त्रिवेणी संग्रहालय समीप में बस, कार एवं दोपहिया वाहन की पार्किंग के लिए अवश्य क्षेत्र निर्माण किए जाएंगे। कोबाल्ट स्टोन की रोड क्रॉसिंग के जरिए पद यात्रियों की कनेक्टिविटी पर विकास करने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। कुल मिलाकर इस योजना के अंतर्गत यात्रियों एवं महाकालेश्वर मंदिर के हित के लिए सभी प्रकार के कार्य किए जाने हैं।

महाकाल योजना के अंतर्गत हटाए जाएंगे पुराने निर्माण कार्य

मध्य प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जी ने श्री महाकाल विकास योजना के अंतर्गत अन्य क्षेत्र एवं प्रवचन हाल एवं धर्मशाला से संबंधित सभी स्थान चिह्नित करने के लिए आदेश जारी किए हैं।माननीय मंत्री जी ने कहा है कि नए प्रवचन हाल धर्मशाला आदि जैसे निर्माण कार्य को विकास दिया जाएगा और वैसे वैसे पुराने निर्माणाधीन कार्यों को हटाया भी जाएगा।इसके साथ ही माननीय मुख्यमंत्री जी ने रुद्रसागर के अंतर्गत किए जा रहे निर्माण कार्य का भी भली भांति से अवलोकन किया। इस शुभ अवसर पर देश के सभी मुख्य मंत्रालयों के मंत्री गण भी इस ऐतिहासिक समय पर मौजूद थे।

मृदा प्रोजेक्ट के द्वितीय चरण में सांस्कृतिक घाटों का भी किया जाएगा सुंदरीकरण

मृदा प्रोजेक्ट द्वितीय चरण के अंतर्गत महाराज वाडा परिसर का विकास कार्य किया जाएगा। इस विकास कार्य में ऐतिहासिक भवन का हेरिटेज रूप में पूर्ण उपयोग, भवन का आंशिक उपयोग कुंभ ग्रह संग्रहालय के रूप में पुराने अवशेषों का समावेश करते हुए इस परिसर का महाकाल मंदिर के परिसर से एकीकरण का कार्य योजना के अंतर्गत पूरा किए जाने का सरकार का प्रावधान है।

प्रदेश के स्थानीय कला एवं संस्कृति को दर्शाते हुए घाटों का निर्माण कार्य किया जाएगा। रामघाट तक पैदल यात्रा करने के लिए यात्रियों के लिए पैदल मार्ग का कायाकल्प कार्य भी किया जाएगा। फेरी एवं ठेला व्यवसाय को के लिए योजना के अंतर्गत एक पृथक व्यवस्था करने का भी प्रावधान है। इतना ही नहीं वस्तु कलात्मक तत्वों का प्रयोग करते हुए गलियों का सुंदरीकरण कार्य एवं राम घाट पर सिंह हास्य थीम पर आधारित डायनामिक लाइट शो की व्यवस्था भी की जाएगी।

इसके अतिरिक्त रूद्र सागर लेक फ्रंट विकास योजना के अंतर्गत लैंडस्केप इन के सहित मनोरंजन केंद्र एवं वैदिक घाटियां और योग केंद्र के साथ-साथ मंत्र ध्वनि स्थल एवं पार्किंग का भी विकास किया जाएगा। इस योजना के अंतर्गत पार्किंग सूचना केंद्र एवं विक्रय केंद्र का विकास कार्य संपूर्ण होगा। इस योजना के आ जाने से मध्यप्रदेश राज्य एवं श्री महाकालेश्वर मंदिर की लोकप्रियता एवं ऐतिहासिकता में विकास होगा।

निष्कर्ष :-

इस योजना के अंतर्गत मध्य प्रदेश राज्य सरकार श्री महाकालेश्वर मंदिर के विकास एवं निर्माण कार्य को बढ़ावा देने के साथ-साथ अपनी प्रदेश में पर्यटन सेनानियों को भी आकर्षित करने के लिए अन्य विकास कार्य करने पर विशेष रूप से ध्यान दे रही है। इस योजना के अंतर्गत छोटे छोटे व्यापारियों का में विशेष रुप से ध्यान दिया जाएगा।


FAQ :

Q : महाकाल विकास योजना क्या है ?

ANS :- इस योजना के जरिए मध्य प्रदेश सरकार महाकालेश्वर मंदिर एवं प्रदेश में विकास एवं निर्माण कार्यों को बढ़ावा देगी।

Q : महाकाल विकास योजना को किसने लागू किया ?

ANS :- माननीय मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जी ने इस योजना का शुभारंभ किया है।

Q : महाकाल विकास योजना के सफल संचालन के लिए सरकार ने कितने रुपए का बजट निर्धारित किया है ?

ANS :- मध्य प्रदेश राज्य सरकार ने इस योजना के सफल संचालन के लिए 500 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया है।

Q : क्या महाकाल विकास योजना के अंतर्गत महाकालेश्वर मंदिर में भी सुंदरीकरण और निर्माणाधीन कार्य किया जाएगा ?

ANS :- जी बिल्कुल विशेष रूप से इसी मंदिर के सुंदरीकरण के ऊपर ध्यान दिया जाएगा।

Other Links

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here