हर घर नल योजना 2020 | Har Ghar Nal Yojana in Hindi

0
72

हर घर नल योजना, स्कीम, कार्यक्रम, सभी को मिलेगा अब नल का पानी (Har Ghar Nal Yojana, Programme, in Hindi)

माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 नवंबर 2020 को हर घर नल योजना को उत्तर प्रदेश में लागू किया है. यहां बता दें कि प्रधानमंत्री ने इस योजना को यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ जी की मौजूदगी में लॉन्च किया है. यह योजना जल जीवन मिशन के तहत काम करेगी जिसका उद्देश्य सभी घरों में पर्याप्त जल की सुविधा देना और इसके साथ-साथ जल का संरक्षण करना है. अभी पहले चरण में यह योजना उत्तर प्रदेश के 2 जिलों सोनभद्र और मिर्जापुर में शुरू की गई है और 2024 तक यूपी के सभी जिलों में इस योजना को लांच कर दिया जाएगा. इस प्रकार इस योजना के अंतर्गत 41 लाख लोगों को पानी की सुविधा का लाभ मिलेगा. अगर आपको इस योजना के बारे में जानकारी नहीं है तो हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ें क्योंकि इसके बारे में हम आज सारी जानकारी आपको देने वाले हैं.

har ghar nal yojana in hindi

आत्मनिर्भर भारत अभियान 3.0 देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार ने शुरू की विभिन्न योजनायें जानिए क्या हैं.

Contents

हर घर नल योजना के कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

योजना का नामहर घर नल योजना
उद्देश्यसभी घरों में शुद्ध पानी की आपूर्ति
किसने लांच कीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
कहां लांच कीयूपी
साल2020
अधिकारिक वेबसाइटअभी नहीं है
टोल फ्री नंबरअभी नहीं है

हर घर नल योजना क्या है

हमारे देश भारत में पानी की कमी एक बहुत ही बड़ी समस्या है जो हर दिन तेजी के साथ बढ़ रही है‌ इसकी वजह से बहुत सारे नागरिकों को पानी उपलब्ध नहीं हो पाता है. इसी समस्या का समाधान करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर घर में ‌पानी पहुंचाने के लिए अपना ध्यान केंद्रित किया है.‌ यहां जानकारी के लिए बता दें कि अभी प्रधानमंत्री ने हर घर जल योजना को यूपी के 2 जिलों में शुरू किया है क्योंकि वहां पर पानी की बहुत ज्यादा परेशानी थी और लोग पीने के पानी के लिए सालों से काफी संघर्ष कर रहे थे. तो इसलिए सरकार हर घर नल योजना के माध्यम से पानी की समस्या का समाधान करना चाहती है.  

प्रधानमंत्री आवास योजना – ग्रामीण में अपना आवेदन करना चाहते हैं तो ऐसे करें.

यूपी में हर घर नल का जल योजना

यूपीए में केंद्र सरकार के द्वारा हर घर नल योजना की शुरुआत की गई है जिसके तहत यूपी सरकार मिर्जापुर जिले के 1606 गांव में पाइप के माध्यम से पीने के पानी की आपूर्ति करेगी. इस प्रकार इस योजना के तहत मिर्जापुर के 21,87,980 ग्रामीण लोगों को पीने के लिए शुद्ध पानी मिलेगा. बता दें कि मिर्जापुर बांध पर जो पानी इकट्ठा किया गया है उसे शुद्ध करके पोर्टेबल बनाया जाएगा और लोगों के घरों तक सप्लाई किया जाएगा. इस प्रकार इस योजना के तहत 2343.20 करोड़ रुपए की लागत आएगी.

इसी तरह सोनभद्र जिले के लगभग 1389 गांव हर घर नल योजना स्कीम से जुड़ेंगे और 19,53,458 ग्रामीण परिवारों को पीने का पानी उपलब्ध कराया जाएगा. ‌यहां बता दें कि सोनभद्र में इस योजना के तहत नदियों और झीलों के पानी को शुद्ध करके पीने योग्य बनाया जाएगा और लोगों के घरों में सप्लाई किया जाएगा. इस प्रकार सोनभद्र में सरकार लगभग 3,212.38 करोड़ रुपए इस योजना पर खर्च करेगी.

तो इस तरह सरकार इन दोनों जिलों के 41,41,438 लोगों को हर घर नल का जल योजना का लाभ देगी. यहां बता दें कि इन दोनों जिलों में पानी की आपूर्ति पूरा करने के लिए सरकार के 5,555.38 करोड़ रुपए खर्च होंगे और आधिकारिक रिपोर्टों के अनुसार इस योजना से 2 साल की अवधि के अंदर अंदर इन दोनों गांवों में पीने के पानी की आपूर्ति की जाएगी.

हर घर नल का जल योजना सारे राष्ट्र के लिए

यहां बता दें कि हर घर नल का जल योजना के तहत नया जल शक्ति मंत्रालय बनाया गया है जिसमें कि रिवर डेवलपमेंट, गंगा रिजूवनेशन , मिनिस्ट्री ऑफ ड्रिंकिंग वाटर एंड सैनिटेशन मंत्रालय शामिल है. बता दें कि केंद्र सरकार का 2024 वित्तीय वर्ष तक सभी घरों में पाइप लाइनों और नलों के माध्यम से पानी की सुविधा पहुंचाना है.

आयुष्मान सहकार योजना : मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए सहकारी संस्थानों को मिल रहा है 10 हजार करोड़ रूपये का ऋण.

नीति आयोग इजरायल के अधिकारियों से मिले -जल शक्ति मिनिस्ट्री

यहां बता दें कि जल शक्ति मिनिस्ट्री का सबसे महत्वपूर्ण और पहला कदम जल संसाधनों का संरक्षण करना है और इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए मनरेगा के श्रमिकों की सहायता ली जा रही है. बता दें कि इस योजना के तहत संसाधनों को संरक्षित करने के लिए बहुत से भारतीय और इजरायली अधिकारी एक-दूसरे से मिले हैं. यहां आपको बता दें कि इजराइल में पहले ही सभी घरों में शुद्ध पानी की सुविधा उपलब्ध करा दी गई है और पाइप लाइन के माध्यम से सभी परिवारों को पानी सप्लाई किया जा रहा है. हमारे देश भारत में लगभग 45% पानी को पीने के लिए प्रयोग किया जाता है और 80% पानी का प्रयोग खेती-बाड़ी के लिए उपयोग में लाया जाता है.

पानी की बढ़ती हुई मांग

यहां जानकारी के लिए बता दें कि नीति आयोग के एक अनुमान के अनुसार भारत में साल 2030 तक पानी की आवश्यकता दुगनी हो जाएगी. साथ ही यह भी जानकारी दे दें कि भारत में तकरीबन 60 करोड़ लोग पीने की पानी की कमी के कारण बहुत ज्यादा परेशानी का सामना कर रहे हैं. इसी वजह से हर साल भारत में लगभग दो लाख लोग मर जाते हैं. यह एक बहुत ही गंभीर समस्या है अगर साल 2030 तक पानी की मांग को दुगना नहीं किया गया तो भारत के सकल घरेलू उत्पाद में 6% की गिरावट आ जाएगी. इसीलिए इस मुद्दे को हल करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर घर नल का जल योजना को शुरू किया है ताकि सभी घरों में पानी की आपूर्ति की जा सके.

प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना : ग्रामीण क्षेत्र की भूमि रिकॉर्ड का डिजिटलीकरण,ऐसे डाउनलोड करें प्रॉपर्टी कार्ड.

FAQ

Q : हर घर नल का जल योजना किसके द्वारा शुरू की गई है और क्यों ?

Ans : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ताकि सभी घरों में पीने का पानी पहुंचाया जा सके.

Q : हर घर जल योजना स्कीम के तहत कितने लोगों को शुद्ध पानी उपलब्ध कराया जाएगा ?

Ans : 41 लाख से अधिक लोगों को.

Q : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर घर जल योजना को यूपी के किन दो जिलों में शुरू किया है ?

Ans : मिर्जापुर और सोनभद्र.

Q : हर घर जल योजना के तहत सरकार का कितना खर्च आएगा ?

Ans : 5,555.38 करोड़ रुपए.

Q : केंद्र सरकार कब तक उत्तर प्रदेश राज्य के सभी लोगों को पीने के पानी की सुविधा को पूरा कर देगी ?

Ans : साल 2024 तक.

अन्य पढ़ें –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here