ग्लोबल प्रवासी रिश्ता पोर्टल और मोबाइल एप्प (Global Pravasi Rishta Portal and Mobile App

0
30

ग्लोबल प्रवासी रिश्ता पोर्टल और मोबाइल एप्प (Global Pravasi Rishta Portal and Mobile App

भारत सरकार के विदेश मंत्रालय द्वारा ग्लोबल प्रवासी रिश्ता पोर्टल लांच किया गया है। मुख्य रूप से इस पोर्टल को वैश्विक रूप से भारतीय प्रवासियों के साथ जोड़ने के लिए लांच किया है। इस नए पोर्टल की शुरुआत 30 दिसंबर 2020 को की गई। इस पोर्टल पर पहुंचने के लिए आपको pravasirishta.gov.in लिंक पर जाना होगा। यह कैसा पोर्टल साबित होगा जो भारतीय प्रवासियों को हर तरह के संचार से जुड़ने में मदद करेगा। एप्लीकेशन एवं पोर्टल के जरिए तो आसानी से दुनियाभर के लगभग 3.12 करोड़ भारतीय आपस में जुड़ पाएंगे। चलिए ग्लोबल प्रवासी रिश्ता पोर्टल के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी प्राप्त कर लेते हैं।

global-pravasi-anusandhan-portal

ग्लोबल प्रवासी रिश्ता पोर्टल और मोबाइल एप्प

मुख्य रूप से ग्लोबल प्रवासी रिश्ता पोर्टल और मोबाइल एप्प भारतीय नागरिकों एवं प्रवासी भारतीयों के द्वारा उपयोग किया जा सकेगा। हालांकि पोर्टल भारतीय मिशन द्वारा ही उपयोग किया जा सकता है। एम ई ए ने यह वैश्विक प्रवासी पोर्टल मोबाइल एप्लीकेशन में बदल कर तैयार किया है। ग्लोबल प्रवासी अनुसंधान पोर्टल और एप्लीकेशन की मदद से पूरी दुनिया में रहने वाले 3.12 करोड़ भारतीय प्रवासी आपस में एक दूसरे से जुड़ सकेंगे जिनमें से 1.78 करोड़ गैर निवासी भारतीय हैं जो भारत के बाहर रहते हैं। साथ ही 1.34 करोड़ ऐसे भारतीय हैं जो भारत के मूल निवासी हैं।

ग्लोबल प्रवासी रिश्ता पोर्टल और मोबाइल एप्प पोर्टल

वैश्विक प्रवासी ऋषि पोर्टल का लिंक यहां पर आप को दिया जाता है जिसके जरिए आप आसानी से ग्लोबल प्रवासी रिश्ता Portal के मुख्य पृष्ठ पर पहुंच जाएंगे।

Http://pravasirishta.gov.in/home

होम पेज पर पहुंचने के बाद भारतीय व्यक्ति अपने देश का नाम एवं अपना उद्देश्य का चुनाव करके सबमिट बटन पर क्लिक कर सकते हैं।

ग्लोबल प्रवासी रिश्ता पोर्टल और मोबाइल एप्प का मुख्य उद्देश्य

भारत के विदेश मंत्री ने केंद्रीय सरकार के नेतृत्व में प्रवासी के महत्व को ध्यान में रखते हुए विभिन्न तरीकों को निकालने का काम किया है। ताकि प्रवासी भारतीय विदेशों में रहकर भी अपने देश के साथ जुड़े रहे। उन्हीं में से एक महत्वपूर्ण तरीका जो अब जारी किया गया है जिसका नाम है ग्लोबल प्रवासी अनुसंधान पोर्टल एवं एप्लीकेशन। इन दोनों ही माध्यम के जरिए सरकार विदेशों में रहने वाले भारतीय समुदायों को सरकार आपस में जोड़ना चाहती है भले ही वह औपचारिक रूप से ना हो पर हर कदम पर उन्हें साथ देखना चाहती है।

ग्लोबल प्रवासी रिश्ता पोर्टल और मोबाइल एप्प की विशेषताएं

ग्लोबल प्रवासी ऋषि पोर्टल एवं ऐप की कुछ महत्वपूर्ण विशेषताएं भी है जो इस प्रकार है:-

  • भारत सरकार द्वारा जारी किए गए ग्लोबल प्रवासी भारतीय पोर्टल के अंतर्गत भारतीय प्रवासी सदस्यों अर्थात टी आई ओ एन आर आई और ओसीआई निवासियों को पंजीकरण में सक्षम बनाया गया है।
  • मुख्य रूप से यह पोर्टल एवं एप्लीकेशन केंद्र सरकार को विदेश में रहने वाले भारतीय समुदाय से जोड़ने का काम करेगी।
  • भारत के बाहर रहने वाले सभी विदेशी इस पोर्टल के जरिए भारत में आने वाली नई सरकारी योजनाओं से जुड़कर फायदा उठा पाएंग।
  • इस पोर्टल एवं एप्लीकेशन के जरिए किसी भी संकट के समय प्रबंधन के दौरान विदेश में रहने वाले भारतीयों की सहायता करने में सरकार सक्षम हो पाएगी।
  • इस पोर्टल के जरिए समय-समय पर संचार के माध्यम को बनाए रखने एवं इस एप्लीकेशन और पोर्टल की मदद से विदेश में रहने वाले भारतीयों को सलाह और आपातकालीन अलर्ट प्रदान करने का काम निरंतर किया जा सकेगा।
  • विदेश में रहने वाले प्रत्येक प्रवासी आपात की स्थिति में इस एप्लीकेशन एवं पोर्टल के जरिए भारत के किसी भी काउंसलर सेवा एवं अधिकारियों तक अपनी बातचीत पहुंचा सकेंगे।
  • भारतीय प्रवासी स्पोर्टल एवं एप्लीकेशन के जरिए अपने पासपोर्ट वीजा एवं अन्य किसी भी सेवा से जुड़ी जानकारियां आसानी से प्राप्त कर पाएंगे।
  • भारत में होने वाले किसी भी प्रकार के मिशन एवं उद्देश्य जो भारतीयों के लिए चलाए जाएंगे उनमें अधिक भागीदारी के लिए प्रवासी सदस्यों को भी आमंत्रित करने काका मिस पोर्टल एवं एप्लीकेशन के द्वारा किया जा सकेगा।

ग्लोबल प्रवासी रिश्ता पोर्टल की आवश्यकता

आज तक भारत के नागरिक जो विदेशों में रहते हैं उनसे जुड़ने का कोई भी ऐसा वैश्विक स्तर तैयार नहीं हो पाया जिससे भारत के लोगों के साथ भारत सरकार का जुड़ाव बना रहे। परंतु इस बार पहली बार ऐसा किया गया है जो विदेश में रहने वाले भारतीयों से जुड़ने के लिए पोर्टल और एप्लीकेशन का निर्माण विदेश मंत्री द्वारा सक्षम हो पाया है जिसकी मदद से आसानी से विदेशों में रहने वाले भारतीयों से जुड़ा जा सकेगा।

भारत के विदेश मंत्रालय द्वारा उठाया गया यह कदम सच में विदेश में रहने वाले भारतीय समुदायों के लिए बेहद खुशनुमा होगा। क्योंकि वह वैश्विक प्रवासी पोर्टल एवं एप्लीकेशन की मदद से अपने देश के लोगों एवं सरकार के संबंध में बने रहेंगे और उनसे हर कदम पर सहायता भी प्राप्त कर पाएंगे और अपने सुझाव देने में सक्षम भी हो पाएंगे।

Other Links

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here