अटल पेंशन योजना 2020 : ऑनलाइन आवेदन | Atal Pension Yojana in hindi

0
63

अटल पेंशन योजना 2020 (ऑनलाइन अप्लाई, प्रीमियम चार्ट, कैलकुलेटर, पात्रता, सूचि, टोल फ्री नंबर, रजिस्ट्रेशन, लिस्ट, शर्तें, क्लेम फॉर्म डाउनलोड) (Atal Pension Yojana in hindi, Calculator, Chart, Premium Plan)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा अटल पेंशन योजना भूतपूर्व प्रधानमंत्री श्री बिहारी बाजपेयी जी के नाम पर शुरू की गई. योजना में युवास्था में निवेश करके भविष्य में 60 साल की उम्र पार करने के बाद लाभ प्राप्त होता है. योजना के अंतर्गत जो भी इस योजना में रजिस्टर कराएगा उसे 60 की उम्र के बाद 1000 से लेकर 5000 रूपए तक की पेंशन मिल सकती है. अटल पेंशन योजना देश की सबसे बड़ी पेंशन योजना है, जिएके अंतर्गत कोई भी भारतीय आवेदन कर रजिस्टर हो सकता है और लाभ प्राप्त कर सकता है. योजना के अंतर्गत निवेश कैसे और कितना होगा, पात्रता, आवेदन फॉर्म, प्रीमियम अमाउंट चार्ट यह सभी जानकारी आपको हमारे इस आर्टिकल में मिल रही है. योजना को अंत तक ध्यान से पढ़ें, ताकि योजना की बारीकियों इसके लाभ और फायदा को आप समझ कर इसमें निवेश कर सकें.

atal pension yojana hindi

Contents

अटल पेंशन योजना लांच

नामअटल पेंशन योजना
लांच कब हुईजून 2015
किसने लांच कीप्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी
किसके नाम पर है योजनाअटल बिहारी बाजपेयी
लाभार्थीभारतीय नागरिक
योजना प्रबंधकपेंशन फ़ंड रेगुलेटरी एंड डेव्लपमेंट अथॉरिटी (पीएफ़आरडीए)
अटल पेंशन योजना टोल फ्री नंबर1800-180-1111

अटल पेंशन योजना क्या है –

अटल पेंशन योजना वृद्ध व्यक्ति को सशक्त बनाने के लिए शुरू की गई है. योजना को मुख्य रूप से असंगठित मजदूर के लिए शुरू किया गया, ताकि उन्हें 60 की उम्र के बाद किसी पर निर्भर न रहना पड़े. योजना के तहत आवेदक युवास्था में अपनी इच्छानुसार एक निश्चित अमाउंट बैंक में जमा कर सकता है, इसमें आप जितना अमाउंट जमा करेंगें सरकार भी उतना ही अमाउंट आपके खाते में जमा करेगी. यह अमाउंट आपको कम से कम 18 साल जमा करना होगा. फिर 60 की उम्र में उस व्यक्ति को पेंशन मिलना शुरू हो जाएगी.

अटल पेंशन योजना का उद्देश्य –

सरकार ने योजना को मुख्य रूप से असंगठित कामगार मजदूरों के लिए शुरू किया था. असंगठित कामगार देश का वो वर्ग है, जिसका काम और नौकरी की कोई गारंटी नहीं होती है, वे कई बार रोज का रोज कमा कर खाते है. उनकी भविष्य को लेकर कोई सेविंग नहीं होती है, वो बस आज का खा कर, आज में ही जीते है. सरकार ऐसे ही लोगों को एक उज्जवल और सुरक्षित भविष्य देना चाहते है, ताकि भविष्य में उन्हें किसी भी तरह की कोई आर्थिक दिक्क्कत न आये.

अटल पेंशन योजना का लाभ क्या है –

  • यह एक तरह की वृद्धा पेंशन है, लेकिन इसमें आपका निवेश युवावस्था में ही शुरू हो जाता है.
  • इस बचत योजना के तहत अगर आवेदक आवेदन करना चाहता है तो उसको नाबालिग होना अनिवार्य है, मतलब कम से कम 18 वर्ष पूर्ण कर लिए हो. योजना में शामिल होने के लिए अधिकतम उम्र 40 वर्ष है.
  • योजना में आवेदक लगातार 42 वर्षों तक निवेश कर लाभ प्राप्त कर सकता है, इसमें व्यक्ति मासिक, त्रैमासिक, छिमाही या वार्षिक रूप में समय अवधि को चुन प्रीमियम भर सकता है.
  • योजना के तहत कम से कम 42 रूपए का निवेश करना होगा, और अधिकतम 291 रूपए मासिक रूप से भरकर लाभ उठाया जा सकता है. यह प्रीमियम राशी उस बात पर निर्भर करती है कि आप किस उम्र में इस योजना में रजिस्ट्रेशन कर रहे है.
  • योजना में व्यक्ति को 60 की उम्र के बाद आजीवन 1000 से 5000 रूपए तक की पेंशन मिल सकती है. अधिक निवेश पर अधिक और कम निवेश पर कम पेंशन प्राप्त होगी.
  • अगर आवेदक की मौत योजना के निश्चित समय से पूर्व हो जाती है तो उसका नॉमिनी योजना में निवेश कर, बची प्रीमियम राशी को भरकर योजना को जारी रख सकता है.

अटल पेंशन योजना की पात्रता शर्तें –

अटल पेंशन योजना का लाभ लेने के लिए सरकार ने कुछ नियम शर्तें बनाई है, इस योग्यता को पूरा करने वाले ही योजना का लाभ उठा सकेंगें. यह पात्रता निम्नलिखित है –

  • भारतीय नागरिक – अटल पेंशन योजना का लाभ सिर्फ और सिर्फ भारतीय नागरिक को मिलेगा, जो मुख्य रूप से भारत में ही रहता हो, किसी भी एनआरआई और अन्य लोगों को इसका लाभ नहीं मिलेगा. आवेदक के पास भारत की नागरिकता होनी अनिवार्य है, उसके पास भारत में चुनाव में वोट देने का हक़ को.
  • उम्र योग्यता – योजना में वही व्यक्ति लाभ ले सकता है जो 18 से 40 की उम्र का हो. 18 से कम या 40 से अधिक कोई भी व्यक्ति किसी भी कीमत में योजना में शामिल नहीं हो सकता है. अगर कोई झूठे कागजात दिखाकर योजना में शामिल होता है तो उस पर सरकार का क़ानूनी कार्यवाही करने का पूरा हक़ है.
  • बैंक अकाउंट – योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक के नाम का बैंक में अकाउंट होना अतिआवश्यक है. जिस आवेदक के नाम पर बैंक में अकाउंट नहीं होगा, वो योजना में रजिस्ट्रेशन नहीं करा सकेगा. अगर आप योजना में आवेदन करने का सोच रहे है तो आप पहले ही बैंक में अपने नाम का अकाउंट ओपन करवा लें, क्यूंकि अटल पेंशन योजना से जुड़े हुए सारे लेनदेन ऑनलाइन आपके बैंक खाते द्वारा ही होंगें, यहाँ कैश किसी भी रूप में लिया दिया नहीं जायेगा.

अटल पेंशन योजना की जरुरी शर्तें –

  • अटल पेंशन योजना 1 जून 2015 को मोदी जी द्वारा शुरू हुई थी. मोदी जी योजना की घोषणा करते हुए ही बताया था कि जो भी इस योजना के अंतर्गत अभी रजिस्ट्रेशन करेगा उसे विशेष लाभ मिलेगा, ऐसा इसलिए कहा था ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग योजना की तरफ आकर्षित होकर अपना नाम योजना में रजिस्टर करे. योजना में जिसने भी 1 जून 2015 से 31 मार्च 2016 के बीच रजिस्ट्रेशन कराया था उसको विशेष लाभ के तहत सरकार भी बराबर की हिस्सेदारी प्रीमियम के तौर पर देगी. मतलब आवेदक जितना प्रीमियम देंगें उतना ही सरकार देगी और उसके अनुसार 60 साल के बाद उनको पेंशन मिलेगी.
  • योजना के अंतर्गत जो भी रजिस्टर करता है, उसको अपने एप्लीकेशन फॉर्म में एक नॉमिनी का नाम देना अनिवार्य है. लेकिन अगर कोई शादीशुदा दंपति है तो वे नॉमिनी के लिए एक दुसरे का नाम नहीं दे सकते क्यूंकि पति पत्नी योजना की शर्त के अनुसार स्वतः ही एक दुसरे के नॉमिनी बन जाते है. इसलिए फॉर्म भरते समय आवेदक ध्यान दें वे अपने पति या पत्नी का नाम नामिनी के लिए नहीं दें, बल्कि परिवार के किसी अन्य सदस्य का नाम लिखें, नहीं तो आपका फॉर्म गलत हो जायेगा.
  • कोई भी व्यक्ति अटल पेंशन योजना के तहत एक ही बार आवेदन कर सकता है. किसी व्यक्ति के नाम पर दो अकाउंट खोले जाते है तो उसपर क़ानूनी कार्यवाही होगी.
  • योजना के तहत कोई भी आवेदक जब चाहे प्रीमियम मोड को बढ़ा या घटा सकता है. यह वह अपनी वर्तमान स्थति के अनुसार साल में एक बार कर सकता है.
  • अटल पेंशन योजना में आवेदक को अपने खाते से जुडी सारी जानकारी उसको रजिस्टर मोबाइल में मिलती रहेगी, साथ ही साल में एक बार सालाना अकाउंट स्टेटमेंट के कागज भी घर के पते में भेजे जायेंगें.

अटल पेंशन योजना की राशी कितनी होगी –

अटल पेंशन योजना में पेंशन राशी 1000 से 5000 के बीच निर्धारित की गई है. कोई भी व्यक्ति हर माह कितनी पेंशन चाहता है वो इसका चुनाव स्वत कर सकता है, जिस पेंशन राशी का चुनाव वो करेगा, उसके अनुरूप ही उसे प्रीमियम राशी का भुगतान भी करना होगा. आवेदक को अगर अपनी पेंशन राशी में बदलाव करना है तो वो भी कर सकता है, बस उसे ध्यान रखना होगा पेंशन राशी द्वारा प्रीमियम में बदलाव साल में एक ही बार किया जा सकेगा.

अटल पेंशन योजना जरुरी दस्तावेज –

  • बैंक की जानकारी – योजना का लेनदेन पूरी तरह से डिजिटल रूप में ऑनलाइन होगा. अतः जरुरी है आवेदक अपने बैंक की सभी सही जानकारी को फॉर्म में भरे. आवेदक बैंक का पोस्ट ऑफिस में खाता खुलवा सकता है. फॉर्म में आवेदन यह जानकारी को पुरे तरह से अच्छे से लिखे.
  • आधार कार्ड – आवेदक के पास देश का सर्वोच्च आईडी कार्ड आधार कार्ड होना चाहिए, इसके बिना वे आवेदन नहीं कर सकेंगें.
  • मजदूर कार्ड – जैसा कि उपर बताया गया कि योजना असंगठित मजदूर श्रमिकों के लिए है मुख्यरूप से है. अगर आवेदक कोई मजदूर या श्रमिक है तो उसको अपनी आईडी के रूप में मजदूर कार्ड दस्तावेज के रूप में जमा करना अनिवार्य है. यह मजदूर कार्ड श्रम विभाग द्वारा श्रमिकों को दिया जाता है, इसमें उनकी सारी जानकारी होती है, अगर आपका यह कार्ड नहीं बना है तो जरुर बनवा लें.
  • आयु प्रमाण पात्र – योजना का लाभ 18 से 40 वर्ष के बीच के लोग ही उठा सकते है, अतः लोगों को अपना आयु, जन्म प्रमाणपत्र दिखाना अनिवार्य है, जिसके द्वारा उनकी सही आयु का पता लग सके.
  • मोबाइल नंबर – आवेदक के पास खुद का चालू मोबाइल भी होना चाहिए, फॉर्म में आवेदक को मोबाइल जानकारी देना भी अतिआवश्यक है, क्यूंकि इसमें ही आपको सारी जानकारी मेसेज द्वारा सरकार भेजेगी, आपकी प्रीमियम की जानकारी, उसकी तारीख रिमाइंडर आपको मेसेज में ही मिल जायेगा.
  • स्थाई पता – आवेदक को अपना स्थाई घर का पता भी बताना होगा, इसके लिए आपको एक प्रमाण पत्र भी देना होगा. स्थाई पता के प्रमाण के लिए आप बिजली का बिल, वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट आदि जमा कर सकते है.
  • पासपोर्ट साइज़ फोटो – आवेदक को अपनी पासपोर्ट साइज़ फोटो भी फॉर्म में संलग्न करनी होगी.

अटल पेंशन योजना पर मार्केट कंडीशन का क्या असर होता हैं –

जो भी प्रीमियम राशी को आवेदक बैंक द्वारा सरकार को देती है, उस राशी को सरकार किसी अन्य लाभकारी योजना में लगा देते है. यहाँ से फायदा पाकर सरकार आवेदकों को लाभ देती है. अगर सरकार को इस योजना से लाभ नहीं होता है, तो यह जिम्मेंदारी सरकार खुद उठाएगी, आवेदक का इसमें कोई नुकसान नहीं होगा.

अटल पेंशन योजना ऑफिसियल वेबसाइट –

अटल पेंशन योजना में आवेदन करने के लिए आपको फॉर्म किसी भी सरकारी बैंक की शाखा या उसकी ऑनलाइन साईट में मिल जायेगा. सरकार ने योजना की जानकारी देने के लिए एक आधिकारिक साईट लांच की है, अटल पेंशन योजना ऑफिसियल वेबसाइट में जाकर आप इसकी सारी जानकारी प्राप्त कर सकते है.

अटल पेंशन योजना खाता कैसे खोले –

अटल पेंशन योजना के अंतर्गत कोई भी भारतीय आवेदन कर लाभ प्राप्त कर सकता है. इसके लिए सरकार ने ऑनलाइन एवं ऑफलाइन दोनों प्रक्रिया शुरू की है, ताकि आम जनता आसानी से योजना का लाभ उठा सके.

अटल पेंशन योजना ऑफलाइन फॉर्म –

कोई भी इन्सान अटल पेंशन योजना का लाभ लेना चाहते है उसका फॉर्म वो बैंक या पोस्ट ऑफिस से ले सकते है. बेहतर होगा, जिस व्यक्ति का जिस बैंक या पोस्ट ऑफिस में खाता है वही से फॉर्म लेकर उसकी जानकारी भरकर, अधिकारीयों को जमा कर दें.

अटल पेंशन योजना ऑनलाइन आवेदन फॉर्म प्रक्रिया –

अटल पेंशन योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन करना चाहते है तो उनके बैंक अकाउंट में इन्टरनेट बैंकिंग सुविधा चालू होनी अनिवार्य है. लेकिन अभी फ़िलहाल कुछ ही बैंक अटल पेंशन योजना में ऑनलाइन आवेदन की सुविधा दे रहे है, आप अटल पेंशन योजना का ऑनलाइन फॉर्म यहाँ देख सकते है. नीचे हम आपको स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के अंतर्गत अटल पेंशन योजना में आवेदन कैसे होगा इसकी जानकारी देने जा रहे है.

अकाउंट लॉग इन –

आवेदक स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया की ऑनलाइन साईट में जाकर अपनी नेट बैंकिंग आईडी पासवर्ड द्वारा लॉग इन करे, यहाँ मेरा खाता विकल्प में जाकर सामाजिक सुरक्षा योजना को सेलेक्ट करें.

अटल पेंशन का चुनाव –

अब नए पेज पर अटल पेंशन योजना को चुने, और अपने बचत खाते की संख्या को चुने, जिससे दोनों आपस में लिंक हो जाएगी.

ग्राहक पहचान संख्या –

आगे आपको ग्राहक पहचान संख्या (सीआईऍफ़) अंक चुनना होगा, इसे करने के बाद आपके सामने एक न्यू फॉर्म खुल जायेगा.

पर्सनल जानकारी –

यहाँ फॉर्म में आपको अपनी पर्सनल जानकारी, बैंक की जानकारी, पेंशन की जानकारी, प्रीमियम की सभी जानकारी सही सही डालनी होगी. सभी जानकारी फिर से चेक कर लें, सही होने पर उसे सबमिट कर दें.

अटल पेंशन योजना प्रीमियम चार्ट –

अटल पेंशन योजना में लाभार्थी कम से कम 20 वर्षों तक प्रीमियम भरेगा, आवेदक को 1000 से 5000 की पेंशन के लिए कितना प्रीमियम कब देना होगा, इसके जानकारी नीचे आपको टेबल में विस्तार से दी गई है.

अटल पेंशन का प्रीमियम मोड क्या है –

आवेदक प्रीमियम राशी को हर महीने, हर तीन महीने, हर छह महीने या साल में एक बार भर सकता है. इसका चुनाव लाभार्थी को फॉर्म में करना होगा, लेकिन ये आगे चलकर आवेदक साल में एक बार बदल भी सकता है. नीचे सूचि में आपको बताया गया है कि किस उम्र में किस मोड में आवेदक को कितनी प्रीमियम राशी जमा करनी होगी. आप अपनी स्वेच्छा अनुसार इसका चुनाव कर सकते है.

अटल पेंशन योजना कैलकुलेटर –

अगर को 60 की उम्र के बाद 1000 रूपए की पेंशन चाहता है तो उसे किस मोड में कितना प्रीमियम भरना होगा नीचे चेक करें –

उम्रयोगदान का समयवार्षिक
1842496
2040590
2535898
30301370
35252136
40203434

अटल पेंशन योजना में 2000 की पेंशन के लिए प्रतिमाह, त्रैमासिक, छिमाही या वार्षिक रूप से कितनी प्रीमियम राशी देनी होगी, नीचे टेबल में चेक करें.

उम्रयोगदान का समयवार्षिक
1842992
20401180
25351782
30302726
35254326
40206870

अटल पेंशन योजना में 3000 की पेंशन के लिए प्रतिमाह, त्रैमासिक, छिमाही या वार्षिक रूप से कितनी प्रीमियम राशी देनी होगी, नीचे टेबल में चेक करें.

उम्रयोगदान का समयवार्षिक
18421488
20401770
25352668
30304096
35256410
402010,304

अटल पेंशन योजना में 4000 की पेंशन के लिए प्रतिमाह, त्रैमासिक, छिमाही या वार्षिक रूप से कितनी प्रीमियम राशी देनी होगी, नीचे टेबल में चेक करें.

उम्रयोगदान का समयवार्षिक
18421982
20402388
25353552
30305454
35258534
402013,738

अटल पेंशन योजना में 5000 की पेंशन के लिए प्रतिमाह, त्रैमासिक, छिमाही या वार्षिक रूप से कितनी प्रीमियम राशी देनी होगी, नीचे टेबल में चेक करें.

उम्रयोगदान का समयवार्षिक
18422478
20402928
25354438
30306810
352510,646
402017,162

आवेदक को निर्धारित समय में चयनित मोड में प्रीमियम राशी का भुगतान करना अनिवार्य है, अगर इसमें तय सीमा से ज्यादा देरी होती है तो आवेदक को पेनल्टी भरनी होगी. पेनल्टी अमाउंट 1 से 10 रूपए तक का होगा जो आपके खाते से ही कटेगा.

अटल पेंशन योजना बंद कैसे करें –

अटल पेंशन योजना के अंतर्गत अगर कोई लाभार्थी समय पर प्रीमियम राशी नहीं भरता है तो उसके अकाउंट से पेनल्टी कटती है, फिर एक समय के बाद में भी अकाउंट में कोई राशी जमा नहीं होती है तो अकाउंट को 6 महीने बाद आवेदक का खाता फ्रीज कर दिया जाता है, फिर उसके अगले 6 महीने मतलब 12 महीने बाद अकाउंट निष्क्रिय हो जाता है, और फिर 24 महीने बाद खाता की बंद कर दिया जाता है. अटल पेंशन खाते में तब तक जो भी राशी जमा हुई होगी, वो संबंधित विभाग के सरकारी खाए में चली जाएगी. फ्रीज और निष्क्रीय खाते को बैंक में जाकर पेनल्टी देकर फिर से शुरू किया जा सकता है, लेकिन अगर एक बाद खाता बंद हो गया तो उसे फिर से नहीं खोला जा सकता है, अब आवेदक को दूसरा अकाउंट बनाने के लिए नए सिरे से आवेदन करना होना.

अटल पेंशन योजना विड्रॉल (क्लेम फॉर्म प्रक्रिया) –

  • योजना के अनुसार कोई लाभार्थी 60 की उम्र के बाद पेंशन पाने का हक़दार होता है. लाभार्थी बैंक में फॉर्म जमा कर इसको प्राप्त कर सकता है. अगर आवेदक की मौत हो जाती है तो उसके स्थान पर नॉमिनी (पति या पत्नी) इस पेंशन के लिए क्लेम आवेदन कर सकते है. अगर दोनों ही जीवित नहीं है तो उनके स्थान पर फॉर्म में लिखे गए नॉमिनी इसके लिए क्लेम कर सकता है.
  • अटल पेंशन योजना में लाभार्थी की मृत्यु होने पर शर्त –
    • 60 साल के पहले मृत्यु – अगर आवेदक 60 की उम्र के पहले की मर जाता है तो उसकी पेंशन राशी डिफ़ॉल्ट नॉमिनी (पति या पत्नी) मिल सकती है, लेकिन उसके लिए उस नॉमिनी को बचे हुए दिन की प्रीमियम राशी जमा करनी होगी. अगर नॉमिनी प्रीमियम नहीं देना चाहता तो वो क्लेम कर उस समय तक जमा हुई राशी को तत्कालीन ब्याज सहित सरकार से लेकर अकाउंट बंद करवा सकता है.
    • 60 साल के बाद मृत्यु – 60 साल के बाद लाभार्थी की मौत हो जाती है तो पेंशन डिफ़ॉल्ट नौमिनी को मिलती रहेगी. नॉमिनी अगर एक बार में ही यह राशी चाहता है तो वो विकल्प भी सरकार ने रखा है. नॉमिनी जमा हुई प्रीमियम राशी को ब्याज सहित सरकार से ले सकता है. यह हक़ सिर्फ डिफ़ॉल्ट नॉमिनी का ही होगा, डिफ़ॉल्ट नॉमिनी के न होने पर अगला नॉमिनी अकाउंट में क्लेम कर राशी प्राप्त कर अकाउंट बंद नहीं करवा सकता है.

अटल पेंशन योजना बंद करने के नियम –

एक बाद अगर कोई अटल पेंशन योजना में अपना खाता खुलवाता है तो वह इसे बीच में बंद नहीं कर सकता है. सरकार ने अकाउंट बंद करने की सिर्फ 2 स्थिति रखी है, पहली अगर आवेदक को कोई बड़ी घातक बीमारी हो गई है, तो वो समय पूर्व योजना को बीच में ही बंद करवा सकता है, इसके अलावा अगर आवेदक की मृत्यु हो जाती है तो अकाउंट बंद बंद करना या आगे जारी रखना है ये नॉमिनी का निर्णय होगा. इस कंडीशन में सरकार ने नियम में बताया है कि आवेदक को सरकार की तरफ से जो अतिरिक्त लाभ मिलता है वो नहीं मिलेगा और अकाउंट में से उसकी देख रेख के पैसे काट कर दिए जायेंगे.

अटल पेंशन योजना बंद करने का एप्लीकेशन फार्म PDF –

  • अगर अटल पेंशन योजना के अंतर्गत आवेदक अपने अमाउंट को विड्रा (निकालना) चाहता है तो उसके लिए फॉर्म की लिंक पर क्लिक करें.
  • अटल पेंशन योजना में रजिस्टर आवेदक की मौत 60 वर्ष पूरे करने के पहले हो जाती है तो वह उस राशी के लिए क्लेम करने के लिए इस फॉर्म को भरे.
  • अटल पेंशन योजना में रजिस्टर लाभार्थी किसी विशेष परिस्थिति जैसे गंभीर बीमारी में यह खाता बंद करना चाहता है तो उसके लिए उसे ये फॉर्म भरने होंगे.
  • फॉर्म 1
  • फॉर्म 2 

अटल पेंशन योजना में कॉपर्स राशि क्या है  –

अटल पेंशन योजना के अंतर्गत अगर आवेदक की मौत हो जाती है तो जो डिफ़ॉल्ट नॉमिनी (पति या पत्नी) होता है वो पेंशन राशी न लेकर एक साथ जमा की गई राशी को क्लेम करके ले सकता है, इसी को कॉपर्स अमाउंट कहते है. कॉपर्स अमाउंट आवेदक द्वारा चुनी गई प्रीमियम राशी के आधार पर काउंट होता है. 5000 की पेंशन अमाउंट जिसे भी मिलेगा उसके नॉमिनी को 8.5 लाख तक की कॉपर्स राशि मिल सकती है.  कॉपर्स राशी इस तरह जोड़ी जाती है –

कॉपर्स अमाउंट = आवेदक द्वारा जमा प्रीमियम राशी + सरकार द्वारा जमा प्रीमियम राशी + ब्याज

पेंशन अमाउंटकॉर्पस अमाउंट
1 हजार1.7 लाख
2 हजार3.4 लाख
3 हजार5.1 लाख
4 हजार6.8 लाख
5 हजार8.5 लाख

अटल पेंशन योजना बैंक लिस्ट  –

अटल पेंशन योजना को देश के किसी भी बैंक या पोस्ट ऑफिस में खोल सकते है, आवेदक अपनी सुविधा अनुसार करीबी बैंक का का चुनाव कर सकते है. जो भी बैंक या पोस्ट ऑफिस अटल पेंशन योजना के तहत अकाउंट खोलते है उन्हें 120 रूपए की प्रोत्साहन राशी प्रति अकाउंट के रूप में सरकार द्वारा दी जाएगी.

अटल पेंशन योजना टोल फ्री हेल्पडेस्क नंबर –

अटल पेंशन योजना में पारदर्शिता के लिए सरकार ने हेल्पलाइन नंबर भी जारी किये है, ताकि ग्राहक सीधे अपनी शिकायत सरकार से करके उसका हल प्राप्त कर सके. देश के प्रत्येक राज्य के अलग अलग हेल्पलाइन नंबर है, इसकी जानकारी आपको ऑफिसियल साईट में मिल जाएगी. आप अटल पेंशन योजना की शिकायत 1800-180-1111 इस नंबर पर कॉल कर के कर सकते है.

अटल पेंशन योजना के तहत ग्राहकों को दिए जाने वाले दंड –

योजना की शर्त अनुसार अगर कोई आवेदक योजना के तहत समय पर प्रीमियम राशी जमा नहीं कर पायेगा तो उसे पैनेल्टी देगी होगी. सरकार ने पैनेल्टी 1 से 10 रूपए निर्धारित की है को आवेदक के अकाउंट से समय पूरा होने पर स्वतः ही कट जाएगी. प्रीमियम राशी के आधार पर ही पैनेल्टी राशी भी निर्धारित की जाती है जैसे –

  • जो व्यक्ति हर महीने 100 रूपए प्रीमियम जमा करता है, उसके खाते से 1 रूपए की पैनेल्टी कटेगी.
  • जो व्यक्ति हर महीने 101-500 रूपए तक की प्रीमियम जमा करता है, उसके खाते से 2 रूपए की पैनेल्टी कटेगी.
  • जो व्यक्ति हर महीने 501-1000 रूपए तक की प्रीमियम जमा करता है, उसके खाते से 5 रूपए की पैनेल्टी कटेगी.
  • जो व्यक्ति हर महीने 1000 रूपए प्रीमियम जमा करता है, उसके खाते से 10 रूपए की पैनेल्टी कटेगी.

FAQ –

Q: अटल पेंशन योजना कब शुरू हुई?

Ans: अटल पेंशन योजना जून 2015 में नरेन्द्र मोदी जी द्वारा शुरू की गई थी, यह मुख्य रूप से असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे मजदूर को ध्यान में रखकर शुरू हुई है.

Q: अटल पेंशन योजना का लाभ कैसे ले?

Ans: योजना का लाभ लेने के लिए आपकी उम्र 18 से 40 के बीच होनी चाहिए, आप अगर योग्य है तो करीबी बैंक में जाकर आवेदन कर सकते है.

Q: APY योगदान क्या है?

Ans: योजना का लाभ ज्यादा से ज्यादा श्रमिक ले सकें, इसके लिए सरकार ने सहयोगदान की सुविधा शुरू की है. आवेदक जितना प्रीमियम भरेगा, उतना ही प्रीमियम का सह योगदान सरकार देगी.

Q: कैसे APY खाते को बंद कैसे करें?

Ans: खाता बंद करना चाहते है तो बैंक में जाकर फॉर्म भरें और आईडी प्रूफ देकर आप अधिकारी को सबमिट करें.

Q: ए पी वाई क्या है?

Ans: यह अटल पेंशन योजना है, जिसमें लाभार्थी अपनी सुविधा अनुसार पेंशन का चुनाव कर सकता है जो उसे 60 वर्ष के पश्चात् मिलेगी.

Other links –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here